Posts

Showing posts from November 19, 2017

कानपुर में बाईस एकड़ की ऐतिहासिक झील 'लापता'

Image
गर्मी में पानी की भीषण किल्लत के बीच कानपुर की नर्वल तहसील में 22 एकड़ की झील 'लापता' हो गई है। इस झील को माफिया ने पाट दिया है और यहां अब खेती होती है। झील के नाम पर फिलहाल रहनस गांव में मकानों के पीछे एक छोटा सा तालाब बचा है। ग्रामीणों के अनुसार, अब तो यहां बारिश का पानी भी नहीं रुकता। जबकि एक वक्त में झील का फैलाव करीब चार किमी आगे गंगा तट तक था। सरकारी रेकॉर्ड में
सरकारी रेकॉर्ड के अनुसार, सरसौल ब्लॉक के रहनस गांव की झील का क्षेत्रफल करीब 22 एकड़ है। आराजी नंबर 771 में एरिया 0.414 हेक्टेयर, नंबर 794 में 0.727, नंबर 795 में 0.965, नंबर 796 में 0.922, नंबर 889 में 2.294, नंबर 828 में 2.591 और नंबर 841 में 0.835 हेक्टेयर एरिया है। यह पूरा एरिया करीब 8.748 हेक्टेयर है यानी करीब 22 एकड़। इतिहास में है जिक्र1909 के गजेटियर ऑफ कानपुर में अंग्रेज ऑफिसर एचआर नेविल ने इसे कानपुर की सबसे बड़ी झीलों में एक शुमार करते हुए लिखा है, रहनस की झील में सारस और अन्य पक्षियों का बसेरा था। यहां नावें चलती थीं। झील बारिश में कई गांवों को पार कर गंगा तक फैल जाती थी। यहां लोग पिकनिक मनाने आते थे। वास…